Aadarsh Rathore
बेशक लोकतंत्र को सबसे बेहतर व्यवस्था कहा जाता है, लेकिन इस कार्टून ने वाकई सोचने के लिए मजबूर कर दिया। मानो या न मानो, लोकतंत्र के यही मायने रह गए हैं।
लेबल: |
5 Responses
  1. बिलकुल सच कह है जी.
    धन्यवाद


  2. स्थितियाँ तो कुछ यही कहती हैं.


  3. वाह.. क्या बात है। लोकतंत्र में पनप रही गुलामी को तड़प को ये कार्टून बखूबी पेश करता है।


  4. बहुत सटीक कार्टून है। कम से कम हमारे देश में तो इन राजनेताओं ने लोकतंत्र का यही हाल कर दिया है।


  5. splendid Says:

    Although from different places, but this perception is consistent, which is relatively rare point!
    nike dunk