Aadarsh Rathore
BOLTACHITTHA.BLOGSPOT.COM
मेरे मन में एक विचार आया कि क्यों न एक ऐसा ब्लॉग बनाऊं जिसमें पूर्ण रूप से ऑडियो पोस्ट्स ही हों। हालांकि पॉडकास्ट का इस्तेमाल नया नहीं है लेकिन हिंदी में कोई ऐसा ब्लॉग जो प्रोग्रामिंग युक्त हो, पहली बार हुआ है। पॉडभारती आदि स्वतंत्र वेबसाइट्स हैं। तो ये लिजिए ऐसा ब्लॉग जो बोलता है। शायद अपनी तरह का अकेला ब्लॉग है। अभी शुरुआत हुई है, इसमें क्या-क्या गतिविधियां की जा सकती हैं, आप अपने सुझाव दें। धन्यवाद। ये रहा उस ब्लॉग का लिंक
click to comment
ऊपर दिए चित्र पर क्लिक करें। और हां, आप भी अपनी रचनाएं भेज सकते हैं। इसके लिए आपको अपने पॉडकास्ट का लिंक या जावास्क्रिप्ट aadarsh_rathore.blog@blogger.com पर मेल करनी है। इसे 6 घंटों के भीतर प्रिव्यू करके प्रकाशित कर दिया जाएगा। सदस्य बनने पर आपको इसका लिंक दिया जाएगा ताकि आप अपने साइडबार में इसका लोगो लगा सकें।
सहयोग के लिए धन्यवाद।
लेबल: |
9 Responses
  1. आपके इस सुंदर से बोलते चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है। आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी बडी प्रतिष्‍ठा प्राप्‍त करेंगे। हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।


  2. aap ka swagat hai.
    podcasts bahut se blogs par hain -audio blogs bhi--aap ki rachna suni--aap ki awaaz mein achchee lagi.
    aagey bhi post karte raheeye-dhnywaad.


  3. आपके इस सुंदर से बोलते चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है।


  4. अच्छा प्रयास है। आपकी आवाज प्रभावशाली आैर आकर्षक है।
    अशोक मधुप


  5. प्रिय आदर्श जी,
    आप का बोलता ब्लॉग अत्यधिक प्रभावशाली है. आवाज़ में भी ज़ादू है. लेकिन एक शंका हो रही है. हर बार जब हम सुनेंगे, वायस फाइल डाउनलोड होगी जो कम से कम ५ एम बी की हो जाएगी जबकि लिखी हुई सामग्री कुछ के बी की ही होगी. डायल अप वालों को कष्ट भी हो सकता है. संभव है हमारी शंका निराधार हो. आप को हमारी शुभकामनाएँ. आभार.
    पुनश्च: टिप्पणी भी यदि रेकॉर्ड करने की जुगाड़ हो जावे तो मज़ा आ जाएगा.
    http://mallar.wordpress.com


  6. आप के बोलते चिट्ठे का स्वागत है, लेकिन एक बात है, लोग सब सटक लेगे, शायद कम ही सुने, क्योकि जो पढने मै मजा है वो सुनने मै नही, लेकिन आप प्रयोग जरुर करे आप की आवाज भी अच्छी है, ओर हम सब की शुभकामनाये भी आप के साथ है.
    धन्यवाद


  7. आप पॉडकास्ट क्यों नहीं करते। बहुत सारी वेबसाइट केवल पॉडकास्ट के लिये होती हैं। उसमें इस कार्य के लिये बेहतर सुविधा रहती है। ये RSS फीड भी देती हैं जिसे कोई भी ले सकता है।

    मैं लगभग ढ़ाई साल से यही बकबक नाम से करता हूं। इस पर पोस्ट किये गये सारे पॉडकास्ट हिन्दी के सारे फीड एग्रेगेटर पर भी आते हैं।

    यह करना इसलिये ज्यादा अच्छा है कि इसे ज्यादा लोग देख पाते हैं। मेरे कुछ पॉडकास्ट के आंकड़े बताते हैं कि वे लगभग १००० बार सुने गये हैं। यह तब है जब मैं mp3 फॉरमैट में ऑडियो फाइल न रख कर ogg फॉरमैट में रखता हूं।

    ogg फॉरमैट बेहतर है, मुक्त मनक है पर mp3 फॉरमैट के बराबर लोकप्रिय नहीं। इसे सुनने में कुछ लोगों को मुश्किल पड़ती है और अक्सर लोग यह सवाल मुझसे किया करते थे।


  8. nike dunk Says:

    can u leave ur phone number to me???