Aadarsh Rathore
जागरण के पत्रकार जरनैल सिंह ने जो किया उसमें उनका आक्रोश निकला। वही आक्रोश जो देश भर की जनता के मन में दबा पड़ा है। मामला सिर्फ सिख दंगों का ही नहीं है। आज तक का इतिहास निकाल कर देख लीजिए। बताइए कि किस सामूहिक नरसंहार के मामले में आज तक कोई हल निकला है। 25 साल पहले हज़ारों आदमियों को कत्ल कर दिया जाता है और उनका दोषी कोई भी नहीं। आयोग पर आयोग बैठते हैं, रिपोर्ट्स पर रिपोर्ट्स आती हैं लेकिन हल कोई नहीं। जांच आयोग और एजेंसिया सरकार के इशारों पर नाचती रहती है। पार्टी कोई भी हो लेकिन इन मामलों पर साफ रिपोर्ट इसलिए नहीं निकालती कि कहीं वोट बैंक पर असर न पड़े। जांच एजेंसिया 25 साल से क्या झक्क मारती रही? पच्चीस साल तक मामले को रगड़ने के बाद कोर्ट में कहा जाता है कि हमारे पास कोई साक्ष्य नहीं है इसलिए मामले को बंद कर दिया जाए। अरे दूसरों की नहीं तो कम से कम अपने दिल की तो आवाज़ सुनो...। सीबीआई की स्थिति आज क्या है, बच्चा-बच्चा जानता है। आरुषि हत्याकांड में हर रोज़ सीबीआई ने अपनी नई कहानी सुनाई। अब वो केश इतना उलझ गया है कि खुद भगवान भी चाहे तो असल दोषियों को नहीं ढूंढ सकता। लोग कहते हैं सीबीआई माने करप्ट ब्यूरो ऑफ इंडिया। आप क्या सोचते हैं कि सिर्फ पुलिस भ्रष्ट है? नहीं भाई, पुलिस वाले तो इस तालाब की छोटी मछलियां हैं, सीबीआई तो मगरमच्छ है जो बड़े मामलों पर हाथ साफ करती है। सत्ता के हाथ की कठपुतली बनी सीबीआई ने एक बार फिर साबित कर दिया कि उससे कोई उम्मीद रखना बेमानी है। जो मामला सीबीआई के हाथ में चला जाए उसमें न्याय की उम्मीद करना सही नहीं है। आज तक जितने भी बड़े मामले सीबीआई के हाथ में गए उनका कुछ अता-पता नहीं चला।

जरनैल सिंह जी ने विरोधस्वरूप जूता उछाला भर था। उनका असल निशाना चिदंबरम नहीं बल्कि समस्त नेताओं की मानसिकता थी। वही मानसिकता जो जनता को बेवकूफ समझकर हर बार उसका फायदा उठाना चाहती है। इस मामले को जॉर्ज बुश वाले प्रकरण से जोड़ना भी सही नहीं। जरनैल सिंह एक वरिष्ठ पत्रकार हैं। उन्हें कोई ज़रूरत नहीं थी इस तरह की हरकत करने की। उन्हें अपनी जिम्मेदारियों का भली-भांति बोध है। उन्होंने जो कदम उठाया वो देश की जनता के मन में दबे गुस्से का ही प्रतीक है। मुझे पता है जरनैल सिंह के इस कदम पर विरोध के स्वर ज्यादा उठेंगे। कई लोग पत्रकार होने की मर्यादा और नैतिकता को बोध कराने की कोशिश करेंगे। हम भारतीय नैतिकता और सामजिकता के छद्म चोले को ओढ़कर ही सब सोचते रहते हैं। लेकिन इस मामले को हमें दूसरे तरीके से सोचना होगा। जरनैल सिंह एक बेहतर पत्रकार हैं और एक भावनात्मक इंसान भी। उनके दिल में भी वही दर्द है जो जनता के दिल में है। वरन् आज के पत्रकार और भावना में कोई सम्बन्ध ही नही दिखाई देता। पत्रकारिता पूर्णत: व्यवसाय बन गई है जहां इमोशन्स और आदर्शों के लिए कोई जगह नहीं है। हां, नैतिकता का भाषण झाड़ने और जनसरोकर की बातों पर घड़ियाली आंसू बहाने वाले पत्रकारों की भी कमी नहीं है। लेकिन ये वही लोग हैं जो कंपनी पॉलिसीज़ का हवाला देखर खबरों को गला घोंट दिया करते हैं लेकिन बाद में पत्रकारिता के मूल्यों पर बड़ा सा लेख छाप देते हैं। हकीकत ये है पत्रकारिता क्लर्क वाला पेशा हो गया है। कम ही लोग हैं जनता के बीच जाकर उनकी समस्याओं को समझ पाते हैं। देखा जाए तो नेता और पत्रकार एक ही थाली के चट्टे-बट्टे हो गए हैं। नेताओं को जनता से वोट चाहिए और पत्रकारों को नोट। जनता पत्रकारों के लिए सिर्फ और सिर्फ ग्राहक बन कर रह गई है। नेता और पत्रकार दोनों मिलकर जनता का इस्तेमाल कर रहे हैं। फिर जनता का दर्द समझेगा कौन। रोज़ की रुटीन में बंधकर हरकोई पत्थर दिल हो गया है।

आज हर कोई आज नेताओं को जूतियाने और लतियाने की बात करता है। ज्यादातर लोग नेताओं को गाली बकते नज़र आते हैं लेकिन कोई ऐसा नहीं जो नेताओं के सामने जाकर अपने विचारों को मूर्त रूप दे सके। ऐसे में जरनैल सिंह जी के इस काम से नेताओं में एक डर ज़रूर पैदा होगा कि अगर वो कुछ गलत करेंगे तो जनता जूता खोलकर मारने दौड़ेगी। नेताओं को नारेबाज़ी, धरने, विरोध, आत्मदाह आदि से कोई फर्क नहीं पड़ता। वजह ये कि इन सभी तरीकों में उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता, फर्क पड़ता है तो सिर्फ आम जनता को। मैं तो जरनैल सिंह के इस कदम को एक नए युग का सूत्रपात मानता हूं। ये लाल चड्डियां भेजने वाले अश्लील तरीके और नक्सलवादी हिंसा से तो बेहतर और कारगर तरीका है। एक क्रांतिकारी तरीका जो भारत को एक नई दिशा दे सकता है। हां, चिदंबरम एक अच्छे नेता हैं, उनके साथ ऐसा नहीं होना चाहिए था। मैं जानता हूं कि ज्यादातर लोग मेरे इन विचारों को बेवकूफाना और अपरिपक्वता करार देंगे, लेकिन उनसे मेरी विनती है कि नैतिकता के लबादे से बाहर आकर सोचकर देखें।
जय हिन्द।
80 Responses
  1. आदर्श भाई आपसे ये उम्मीद नहीं थी। आप इस घटना का समर्थन कैसे कर सकते हैं?????


  2. You are right, Its an effective weapon...


  3. एक पत्रकार को अपनी जिम्मेदारियों से मुह नही मोड़ना चाहिए। वो केवल एक इन्सान ही नही है बल्कि उस वक्त एक पत्रकार की हैसियत से वहां गया था। इस तरह का व्यवहार अशोभनीय है.


  4. कांग्रेसी नेताओ ने देश को बर्बाद कर दिया है।
    VOTE FOR BJP...


  5. Yachna Says:

    Sir, aapne jo likha hai mai usue agree hu lekin kya ek journalist koa aisa karna chahiye??


  6. पत्रकार धर्म, जाति आदि बंधनों से ऊपर होता है, उसे ऐसा नहीं करना चाहिए...


  7. Anonymous Says:

    जो मंत्री बनकर जाते हैं उनकी खोपड़ी पर भी जिम्मेदारी होती है, जब वो बेईमानी करके सीबीआई का दुरुपयोग करते हैं तो काम जूतों का ही है,

    सही पड़ी, खूब पड़ी, अच्छी पड़ी, हर बेईमान पर पड़ती रहे


  8. लोकतंत्र पर जब जब जूता चलता है तब तब ऐसे ही लेख पढ़ने को मिलते हैं,और शायद आप इस जूते को ही हल्के में ले गए...


  9. जिन लोगों का जूतों पर अधिक विश्वास है उन्हें पत्रकारिता तो छोड़ ही देनी चाहिये।


  10. बिल्कुल सही विचार व्यक्त किए हैं। सही मायने में जूता ही भ्रष्ट नेताओ के खिलाफ एक मात्र हथियार बच गया है। वर्षों से न्याय की आस का चकानाचूर हो जाना वाकई में शर्मसार कर देने वाली घटना है। ऐसे मे जनरैल सिंह जी ने जो यह कदम उठाया है वह बल्कुल ही सही है। आज हर किसी को भ्रष्ट लोगों के लिए इस हथियार का प्रयोग करना चाहिए। जहां तक बात चिदंबरम जी की है तो यह जूता उनके लिए नहीं वरन सरकार के खिलाफ है और जूता फेकना जनरैल सिंह जी का आक्रोश नही बल्कि पूरे मुल्क का आक्रोश है। अगर एक-आध चाटूकारों की छोड़ दें।


  11. मित्र अक्षत विचार, आपकी टिप्पणी का सम्मान करता हूं लेकिन साथ ही में ये भी कहना चाहता हूं कि बाहुबलियों और भ्रष्ट नेताओं, जिनके खिलाफ न तो संविधान, न कोर्ट, न चुनाव आयोग औऱ न ही पत्रकार की कलम कुछ असर करती है, उन पर जूता एक कारगर हथियार है। मैं चिदंबरम साहब की बात नहीं कर रहा। लोकतंत्र में कई खामिया हैं। नेता उनको अपने हितों के लिए नहीं सुधार रहे। ऐसे में हमारे पास इसके अलावा कोई और विकल्प नहीं। हकीकत को स्वीकार कीजिए की पत्रकार भी इसमें अपनी कलम से कुछ नहीं कर सकते


  12. इस प्रकरण को पत्रकारितो से जोड़कर देखना उचित नहीं।


  13. Anonymous Says:

    तुम जैसे लोगों को पत्रकारिता छोड़ देनी चाहिए


  14. Anonymous Says:

    तुम जैसे लोगों को पत्रकारिता छोड़ देनी चाहिए


  15. Anonymous Says:

    शठे शाठ्यम समाचरेत
    अगर बेईमान राजनेता अपने छुद्र स्वार्थों के लिये सीबीआई जैसे संस्था का दुरुपयोग करेंगे तो आम आदमी के पास क्या विकल्प रह जाता है?

    जूता मारो तान के
    हर इक बेईमान के


  16. जो लोग यहाँ पत्रकारिता पर नैतिकता बघार रहे हैं… वे प्रगतिशील होने का ढोंग कर रहे हैं… ऐसे लोग शायद आजकल के पत्रकारों(?) को नहीं जानते… पहली बार किसी पत्रकार ने अपने दिल की आवाज़ सुनी है… लेकिन इस घटना के बाद हर पत्रकार वार्ता में सभी के जूते बाहर ही उतरवा लिये जायेंगे… सबसे डरपोक प्राणी नेता ही होता है…


  17. Sandeep Sharma Says:

    जब पूरी व्यवस्था नपुंसक बनी बैठी है तो अब पत्रकारों को ही आगे आना होगा


  18. sareetha Says:

    जरनैल सिंह ने आम भारतीय के आक्रोश को अभिव्यक्ति दी है । व्यवस्था को हाथों की कठपुतली बनाने वाले नेताओं पर को सचेत हो जाना चाहिए कि कानून को अपने हिसाब से परिभाषित करने का सिलसिला अब और लम्बा चलने वाला नहीं है । ये आग़ाज़ है जन भावनाओं के उबलने का ।


  19. Amit Bhardwaj Says:

    बिल्कुल सही कहा आदर्श आपने...मैं आपके विचारों से बिल्कुल सहमत हूं....साथ ही जनरैल सिंह ने जो कदम उठाया मैं उससे भी सहमत हूं....आज नहीं तो कल ये तो होना ही था...दरअसल जो कदम जनरैल सिंह ने उठाया वो उनकी निजी सोच नहीं थी, बल्कि वो पूरे अवाम की सोच थी....


  20. प्रभात पाण्डेय Says:

    जब जब चले हैं जूते अपनों की ओर से
    टीवी मीडिया ने भुनाया इसे जोर शोर से
    शादी में इन्हें चुपके से चुराती हैं सालियां
    पर अब तो ये बरस रहे हैं जोर-जोर से
    मंदिरों से चोरी हो तो अब किसे है फिक्र
    फिक्र कुछ नया है जो इस कदर का है
    कि पीसीओं में जाना पड़ेगे जूते खोल-खोल के


  21. कुमार आलोक Says:

    Suresh Chiplunkar से शत प्रतिशत सहमत


  22. PRABHAKAR SINGH Says:

    bhaiya aa p ne kafi achha likha hai , jarnall ne pratikatamk virodh kiya hai chahte to wo itne karib the ki wo chitambrum ko joota mar bhi sakte the .sawal ye uthata hai ki kalam ka sipahi yesa karne per majboor ho raha hai kyon .virodh to karna hoga .patrakarita girvi rakh rahin hai.singh is desh me bache he kitane hain unko sarkar bhi marne ka ijajat nahi dethai.


  23. prabhakar singh Says:

    bhaiya aa p ne kafi achha likha hai , jarnall ne pratikatamk virodh kiya hai chahte to wo itne karib the ki wo chitambrum ko joota mar bhi sakte the .sawal ye uthata hai ki kalam ka sipahi yesa karne per majboor ho raha hai kyon .virodh to karna hoga .patrakarita girvi rakh rahin hai.singh is desh me bache he kitane hain unko sarkar bhi marne ka ijajat nahi dethai


  24. Kishore Says:

    sabhi patrkaro ko Jarnail ke favour me aage aana chahiye


  25. how can we stand unite? News channels are making this a big issue....
    its getting print vs electronic media...


  26. Anonymous Says:

    इन नेताओ को पकड़कर गोली मार देनी चाहिए ये तो जुता ही मारा है


  27. जितने भी लोग इस लेख का विरोध कर रहे हैं उनके पीछे शायद ये कारण हो सकते हैं.
    पहला सन 84 के दंगों से उन लोगो का कुछ भी लेना देना नहीं है या वो इस विषय मे कुछ नहीं जानते हैं...
    दूसरा उन लोगों ने कभी अपनो के खोने का दर्द महसूस नहीं किया है..
    तीसरा वो लोग नेताओं को भगवान समझते हैं....
    इसके अलावा और भी कारण हो सकते हैं
    इस मामले मे मेरा जो व्यक्तिगत मत है वो ये है विरोध के अपने अपने तरीके होते हैं
    इंदिरा गाँधी की हत्या के बाद भी विरोध का एक नया तरीका जन्मा था ....शुक्र है जरनेल सिंग ने वो तरीका नहीं अपनाया
    मगर उन्होने विरोध का जो तरीका अपनाया वो प्रशंसनीय है...ओर ये उनकी दरियादिली है की उन्होने अन्याय के खिलाफ सिर्फ़ अपना जूता फेंका....अगर पूरा सिख समुदाय विरोध पर उतार आया तो बेटा पूरी सरकार अपने जूते सर पर रख कर भागेगी

    जय हिंद


  28. Anonymous Says:

    जूता मारना किसी समस्या का हल नहीं है जूता मारकर उसे क्या मिला


  29. जूता मारकर उसे नाम मिला नेताओं को बदनामी मिली ओर लोगों को अन्याय का विरोध करने का एक नया तरीका मिला.....और आपको लिखने के लिए मुद्दा मिला....अरे भैया एक जूता और इतने सारे काम
    मैं तो कहता हून की इन भ्रष्‍ट नेताओं को और जूते मारो.....लोगों को बहुत सारा काम मिल जाएगा


  30. जरनैल सिंह ने जो किया वो पत्रकारिता के लिहाज से निश्चित रूप से सही नहीं था,लेकिन एक सवाल है कि क्या पत्रकार एक आम आदमी नहीं है,क्या एक पत्रकार के अंदर संवेदना नहीं होना चाहिए .क्या पत्रकार के घर परिवार रिश्तेदार नहीं होते, सन 1984 के दंगें को याद करके आज भी शरीर में सिहरन दौड़ जाती है,जो अमानवीय कृत्य आज भी भारत के इतिहास का काला अध्याय बना हुआ है. उसी को कराने वाले आरोपी को सबूतों के आभाव में छोड़ देना निश्चित रूप से हृदय पर कुठाराघात ही तो है. बड़ी खिन्नता होती है ये कहते हुए कि यहां जनतंत्र है लेकिन वास्तविकता में यहां जन तो हैं लेकिन तंत्र टूटा फूटा कहीं अपनी मलहम पट्टी करा रहा है,इतना कुछ जानने के बाद भी हम अपने आप को लाचार पाते हैं क्यों कि हमारे पथ प्रदर्शक वो लोग हैं जिन्होने अपने दामन में दागों के बाज़ार लगा रखे हैं,और हमारी मजबूरी बन गई है अपने मताधिकार को आंखों पर काली पट्टी बांधकर बेसहारा छोड़ देने की.....सिर्फ मजबूरी...


  31. तरीका गलत है पर उनकी बात सही है..खुद उन्होंने इसे माना है


  32. उनके आक्रोश को समझा जा सकता है .. पर इससे देश एक अनावश्यक बहस में उलझेगा ,कटुता बढेगी ओर रिश्तो में खटास आयेगी....जो कि इस वक़्त के नाजुक दौर में ठीक नहीं है.....उन्हें अपनी कलम से जोरदार तरीके से विरोध को जारी रखना चाहिए ...माना की उससे शायद देश में बहस नहीं छिडती ..पर इससे एक गलत मेसेज भी चला जाता है...
    रही इस समस्या के हल की बात ...तो कांग्रेस को कुछ कठोर निर्णय लेने चाहिए...


  33. mujhe to dono hee maamlon mein ek hee afsos raha ki dono hee patrakaaron kaa nishaanaa kachha thaa khair kabhee na kabhee to koi pakaa nishaanebaaj jaroor hee aayegaa.


  34. घटना से साबित हो रहा है की सोच अब
    कितनी गिर चुकी है
    घटना हर हाल में गलत है
    भैया क्या अब जूते से ही अव्वाज़ निकलेगी
    आज तो शोक मनाने का दिन है


  35. आखिरकार जूता खाकर चिदम्बरम भी बुश की लाईन में आ गये, दुनिया के सभी नेता एक जैसे होते हैं, जैसे कि पत्रकार कुछ एक अलग होते हैं जो क्रांतिकारी सोच रखते हैं। ये तो केवल विरोध का तरीका मात्र था जो कि जनता के लिये एक पैगाम है।


  36. जो भी हो, कई बार आदमी अपने प्रोफेशन और इमोशन के अंर्तद्वंद में ऐसे कदम उठा लेता है। वि‍रोध करने के तरीके पर तो सदि‍यों से मतभेद बना रहा है और बना रहेगा।


  37. pankaj vyas Says:

    isliyen aapki is post ko ratlam, Jhabua(M.P.), dahood(Gujarat) se Prakashit Danik Prasaran me prakashit karane ja rahan hoon.

    kripaya, aap apan postal addres send karen, taki aapko ek prati pahoonchayi ja saken.

    pan_vya@yahoo.co.in


  38. mayank kumar Says:

    जूता फैंकना या ना फैंकना मुद्दा नहीं है लेकिन एक पत्रकार द्बारा ऐसी हरकत को समर्थन सर्वथा अनुचित है. इससे एक गलत परंपरा के शुरु होने का खतरा है....पत्रकार की हसीयत से गए जरनाल सिंंह ने जो किया उससे पत्रकारिता के नैतिक मूल्यों का हास हुआ है.


  39. mayank kumar Says:

    अगर जरनैल वहां से वॉक आउट कर जाते तो उनके द्वारा किया गया ये कदम ज्यादा सराहनीय कहलाता...बनिस्पत इस कदम के.......
    लेख अच्छा है विचारों में असमानता स्वस्थ बहस के लिए बेहद जरुरी है......मेरा ऐसा मानना है.....शुभकामनाएं....


  40. kshitij Says:

    घटना के बाद तथाकथित मीडिया ख़ासकर न्यूज़ चैनलों को कई घंटे खेलने का मसाला मिला...कुछ वरिष्ट पत्रकारों को इसी बहाने संपादकीय वाचने का मौका भी....ये माना कि जरनैल एक पत्रकार था..पत्रकार है....लेकिन क्या एक पत्रकार ये भूल जाए कि वो एक आम आदमी भी है...समाज का एक हिस्सा भी....अगर हर पत्रकार ये भूल जाए कि वो आम आदमी नहीं तो शायद न तो किसी वो आम आदमी का दर्द बयां कर सकता है....न ही उनकी तकलीफें जान सकता है...महसूस कर सकता है....और जब महसूस नहीं करेगा....तो उसका कलम क्या लिखेगा ख़ाक....तटस्थ रहकर पत्रकार तभी तक लिख सकता है..जब तक उसके गुस्सा चिंगारी के रुप में जल रहा हो....जरनैल की मानसिकता महसूस करने की जरुरत है....मैं उसे वेल डन नहीं कह सकता....लेकिन नेताओं को सचेत हो जाना चाहिए...क्योंकि राजनीति की गंदगी अब नाक तक पहुंच चुकी है....जिस दिन आम आदमी हाथ में जूते लेकर निकल पड़ेगा ...उस दिन स्वार्थी घटिया राजनीतिज्ञों को भागने की जगह तक नहीं मिलेगी.....जरनैल सिंह ने प्रतीकात्मक रुप से जूता उछाला था.....आम आदमी जूते का निशाना लगाएगा.......लगाना भी चाहिए...क्योंकि सरकार...राजनीति...राजनेता ...शायद अब यही भाषा समझें........


  41. आपने सही कहा या गलत ये तो अपने अपने विचार है..पर जरनैल ने सही किया या गलत इस बहस में पड़ना बेवकूफी होगी क्योकि वो एक क्रोध की फुहार भर थी जो सिर्फ छलकी भर हैं...अगर वो घड़ा फूट गया तो एक बार फिर देश जल उठेगा और हम सभी अख़बारों और चैनलों में लोगों के मारे जाने की ख़बरें चलातें रहेंगे और देश जलता रहेगा......


  42. जूते वाली घटना के बाद टाइटलर के टिकट कट जाने से एक बात तो साफ़ हो जाती है कि आजकल के नेता जूतों की ही भाषा समझते हैं.


  43. आदर्श, गुस्से पर आखिर इंसान कब तक काबू रख सकता है... जनरैल प्रकरण पर मेरी टिप्पणी देखना चाहते हो तो मेरा ब्लॉग देखो।


  44. आदर्श बाबू, पहली बार बरास्ता अनुपम मिश्रा के ब्लॉग से आपके अड्डे तक पहुंचा हूं। आजकल सभी ब्लॉगियों के सिर पर जरनैल जूता समेत सवार है। टिपपणियों में बहस जारी है, लेकिन इससे पहले भी भारत में एक लेखिका अरुंधती राय को एक प्रतिष्ठित मंच पर जूता पड़ा चुका है। तब ऐसी आग बबूला बहस नहीं हुई थी। हालांकि चिदंबरम इस जूते के हकदार नहीं थे। जो हुआ सो हुआ। ये जरनैल का स्वविवेक था और उसने अपना फैसला ले लिया तो खामियाजा भी भुगत रहा है। मैं तो इतना ही कहना चाहूंगा कि अगर जूता संवाद का उचित माध्यम है तो जेब पर कलम की जगह जूता टांग कर चलना चाहिए। अपना फैसला आप खुद लें। मैं तो जूते को चलने-फिरने का ही माध्यम मानता हूं। आपके लेखन के बारे में क्या कहूं पर साज सज्जा बखूबी की है आपने अपने ब्लॉग की।


  45. Anonymous Says:

    Hi there,my name is Mandy and i want to give you a tip from me.


    Hi there!,if you want to search for free
    blockbuster in the internet than is allmymovies.biz for [url=http://www.allmymovies.biz]watch movies free online[/url] the first choice.

    You recall www.allmymovies.biz??
    The securityserver is down, you can notice of every movie pro self-ruling!!!
    I deliberate on its hacked ;-)

    [url=http://www.allmymovies.biz]watch movies free online[/url]


    Mhh, yes i have ever dreamed of a own private cinema.

    Sounds crazy i know.


  46. Anonymous Says:

    Hello this is my first post on pyala.blogspot.com. What do you think of these sites? Any good?

    internet dating tips
    http://itsyournovel.com/simplemachinesforum/index.php?action=profile;u=51192

    dating sim games
    http://danreed.com/forum/memberlist.php?mode=joined&order=ASC&start=3350

    online dating service search
    http://ksnonlinehome.com/forum/profile.php?mode=viewprofile&u=76407

    free online dating sites
    http://www.bouldercarbontax.org/forum/member.php?u=46175

    find free online dating
    http://www.yu-s.jp/xoops/modules/newbb/viewtopic.php?topic_id=101534&post_id=107699&order=0&viewmode=flat&pid=0&forum=1#forumpost107699


  47. Anonymous Says:

    hiya


    great forum lots of lovely people just what i need


    hopefully this is just what im looking for, looks like i have a lot to read.


  48. Anonymous Says:

    Hey

    I wanted to share with you a AMAZING site I just came across teaching [url=http://www.kravmagabootcamp.com][b]Krav Maga[/b][/url] For All Levels If you guys have seen the Tv Show called Fight Quest you would have seen their chief instructor Ran Nakash there featured on their [url=http://www.kravmagabootcamp.com][b]Krav Maga[/b][/url] segment. Anyways, let me know what you think. Is training via the internet something you would do?


    regards

    Forrest


  49. Anonymous Says:

    All about shop-script
    [IMG]http://s43.radikal.ru/i102/0901/37/7366b19ed2b2.png[/IMG]
    http://shop-scripts.ru
    Can it: modules, templates, sql DB and othes...
    FREE all products :)
    [URL=http://www.shop-scripts.ru]shop-scripts.ru[/URL]

    Варез и нулл движка размещен не будет.:-]
    В сети и так полно
    Что касаемо модулей и прочего, берется материал из открытых источников. Если интересный материал имеет какие-нибудь непосредственное авторство или права, то только с согласия автора!!!
    Тематика форума: Обсуждение работы интернет магазинов на движке shop-script, обмен опытом, тестирование новых или уже известных модулей, участие в разработке новых решений и/или дополнений для shop-script, использующихся в интернет-продажах.

    [URL=http://www.shop-scripts.ru]shop-scripts.ru[/URL]
    http://www.shop-scripts.ru


  50. Anonymous Says:

    If you want talk with me than take a look at
    [url=http://www.single-sucht.com]single sucht[/url] i don't know yet.
    I think its single-sucht.com

    This is mandy from
    http://www.myspace.com/allmymovies.biz
    and here is my invitation to you to take a look on :

    [url=http://www.kamagrapharma.com]kamagra shop[/url]
    [url=http://www.allmymovies.biz]watch free movies online[/url]
    [url=http://www.monkredit.com]kredit ohne schufa[/url]


  51. Anonymous Says:

    Anyone need links back to your web pages? will give you a ton of of backlinks. e-mail: webmaster@spreadrumers.com. Dueces!


  52. Anonymous Says:

    whats up everyone


    just registered and put on my todo list


    hopefully this is just what im looking for, looks like i have a lot to read Im trying to find a way to build an e-mail list.


  53. Anonymous Says:

    whats up everyone


    Just saying hello while I look through the posts I'm trying to find out how to make an e-mail list with out having to spend a wad of cash on some training course


    hopefully this is just what im looking for, looks like i have a lot to read Im trying to find a way to build an e-mail list.


  54. Anonymous Says:

    http://www.disboards.com/member.php?u=300104
    http://phpnuke.org/modules.php?name=Your_Account&op=userinfo&username=alva9kaufman
    http://www.playonplugins.com/index.php?action=profile;u=70946
    http://www.teentoday.co.uk/forums/member/58882/
    http://casalindacity.com/help//index.php?action=profile;u=20153


  55. Anonymous Says:

    Greetings folks, I'm Steven from CoFFeeInSpEcToR.com. I discovered this excellent forum and are planning to present you best and true reviews of gourmet coffees and coffee makers.

    Find how to save money and time by checking to my website which talks about: [url=http://www.coffeeinspector.com]blue mountain coffee[/url].


  56. Anonymous Says:

    I am new here, glad to join you.


  57. Anonymous Says:

    Вот еще немного ссылок на тему, как похудеть.
    Похудеть http://tylerleonard.t35.com/


  58. Anonymous Says:

    Great article. When will I get the rest information?

    Hilary Smith
    girl escorts


  59. Anonymous Says:

    Hello!

    Nowadays getting a good job is not an easy task.
    If you are looking for a job check out an interesting [url=http://www.headhunterfinder.com]Headhunters [/url] directory.
    Thanks to them i found a specialized headhunter and i got a new job.
    Hope you find a nice job too!


  60. Anonymous Says:

    There are many online training videos, such as penis penis exercise pills for penis enlargement that programs.I strongly recommended to carry out these training videos that option to run the Jelqing exercise to avoid damage to your penis. It is always better to have a good knowledge of the product must use it.Penis Extender works on the same principle Jelqing exercise, but the mechanism of the two products are slightly different.

    Pills When the right product - in fact, they work much better than any of the programs called "physical", filler or other questionable products on the market. The most preferred option is the use of so-called penis enlargement (or male enhancement) pills. penis enlargement capsules If you have a series of TV commercials (smiling Bob ...), you also know some of the advertised products. Ancient writings tell us that exercises were used as the expansion in front of thousands of years means penis. However revealed only recently serious medical studies and clinical trials, increase penis exercises really penis length and girth.

    Also gave the same studies that the increase in penis size is not the only benefit of the penis exercises.Some benefits of these exercises (also male enhancement exercises) are increasing your ability to work harder and longer erection (as you are no longer in a position in bed ) to produce modified, increasing the volume of semen, if your penis enlargement medicine overall sexual control and performance, and of course make your penis larger ejaculate. All these effects can improve your life, imagine how confident you would be if you want your penis is longer than average and you take enough time in bed with your partner happy know. This can be achieved if you follow him program.



    The only way these days that all optimally meet these penis enlargement supplements requirements and is lightweight, durable and carried out without development of side effects exercises.Natural natural penis penis exercises in less than 10 minutes per day, with only your two hands and a little lubrication. penis enlargement supplements These exercises are a form of masturbation, but with a twist: If you choose is actually a very efficient and respected penis exercise programs, and if you are 100% consistent with the program you choose, you will not just so much to see as a result of the first two weeks, you can 1-4 inches in fact grow larger (I got 2 inches ) in just 2 months.


  61. Anonymous Says:

    Irraltstearie

    [url=http://healthplusrx.com/magna-rx-review]magna rx review[/url] teepinvepsy


  62. Anonymous Says:

    exotic, then the red is painted on the soles did not expect that, especially the Manolo Blahnik pumpsopen toe style, Looking pair of beautiful high heels, 14 years old,
    [b][url=http://www.fashionchristian.com/christian-louboutin-pumps-christian-louboutin-pumps-on-sale-c-99_80.html]christian louboutin pumps on sale[/url][/b]


  63. Anonymous Says:

    На этом сайте собрана лучшая http://mp3hka.com?бесплатная_музыка_mp3 а также http://mp3hka.com?mp3_музыка , http://mp3hka.com?вся_новая_музыка_бесплатно
    http://mp3hka.com?Бесплатная-музыка-mp3
    http://mp3hka.com?музыка-mp3
    http://mp3hka.com?скачать-mp3
    http://mp3hka.com?mp3-бесплатно
    http://mp3hka.com?mp3-музыку


  64. Anonymous Says:

    Sire pointed strainer graphics in the service of practically any fancy like one possessed with Adobe Fireworks CS5 software. Prototype websites, owner interfaces, or rich media applications using both vector and bitmap tools. Import assets from Adobe Photoshop or Illustrator software and export to HTML and CSS, Adobe Twinkling Catalyst software, or the Adobe AIR runtime. Optimize incontrovertible allusion with the industry's leading curtain graphics software.
    baselinesoft.com/software/adobe-fireworks-cs5.html


  65. Anonymous Says:

    Well that is really interesting, thanks for sharing that!
    Best Vacuum
    http://smallvacuumcleaners.net/


  66. Anonymous Says:

    вы можете познакомился с замечательными людьми, приобщится к ценностям мировой литературы, музыки и кино. Скачать нужное в быту программное обеспечение.
    http://bratva.name/forum
    http://bratva.name/?купить-гражданство
    http://bratva.name/?купить-пасспорт
    http://bratva.name/forum?как-правильно-дрочить-хуй


  67. Anonymous Says:

    car crash in rocks lane how to get rid of car scratches 2006 in mercury retrograde ford talent chicago online used car loans


  68. Anonymous Says:

    If this is not the right place, please move me. My friends call me Dorthy. My interests involves opportunities online I look forward to exploring more about this site pyala.blogspot.com [img]http://pushbuttonmoneybonus.net/push-button-money-bonus.gif[/img]


  69. Anonymous Says:

    Please tell me if I should be posting in this category. People know me as Cindy. I like selling see how anyone can [url=http://quizilla.teennick.com/stories/17896001/click-n-bank-scam-and-super-1000-bonus-products] click n bank review[/url]. I'll be checking out more of pyala.blogspot.com


  70. Anonymous Says:

    hey ever try out a hookah? Hookah


  71. Anonymous Says:

    INSERT


  72. Anonymous Says:

    TOP 30 GOOGLE RUS shops!!!
    Special for you -30%

    http://skopirui.ru
    http://lavka-surprizov.ru
    http://sports-board.ru
    http://sport-prestish.ru
    http://rebenka-mir.ru
    http://parfume-lite.ru
    http://velosipedov-net.ru
    http://igla-nitka.ru
    http://nasha-kroxa.ru
    http://elijah-wood.ru
    http://nash-kroxa.ru
    http://orenbizness.ru
    http://sportblok.ru
    http://stroybetons.ru
    http://mshop-service.ru
    http://avtoinstruments.ru
    http://dress-soul.ru
    http://mamka-papka.ru
    http://rapira-mir.ru
    http://sport-servise.ru
    http://job-netbooks.ru
    http://linkok.ru
    http://more-zagara.ru
    http://newservise.ru
    http://reglog.ru
    http://sportdoc.ru
    http://stroika-line.ru
    http://stroybetons.ru


  73. Anonymous Says:

    Hi, I am a real estate specialist. horse property for sale


  74. Anonymous Says:

    mmesOEG - hallo guys :D

    http://spamerus.info


  75. Anonymous Says:

    38537.....13223


  76. Anonymous Says:

    hi

    i am new here

    just wana say hi to all

    DxSEO


  77. Anonymous Says:

    I intended to compose you that very little remark to finally give many thanks over again for those striking knowledge you have discussed above. It is certainly incredibly generous with you to offer publicly what many individuals might have made available for an electronic book to end up making some bucks for their own end, specifically seeing that you could possibly have tried it in case you wanted. These basics also acted to be the fantastic way to comprehend other individuals have the identical passion just as my very own to understand good deal more in terms of this issue. Certainly there are thousands of more pleasurable times up front for many who read through your website.


  78. Anonymous Says:

    When I gave that free censure of the country and its inhabitants, he made no further answer than by telling me that I had not been long enough among them to form a judgment, and that the different nations of the world had different customs, with other common topics to the same purpose. But when we returned to his palace, he asked me how I liked the building, what absurdities I observed, and what quarrel I had with the dress or looks of his domestics. This he might safely do, because every thing about him was magnificent, regular, and polite. I answered that his Excellency's prudence, quality, and fortune, had exempted him from those defects which folly and beggary had produced in others. He said if I would go with him to his country house, about twenty miles distant, where his estate lay, there would be more leisure for this kind of conversation. I told his Excellency that I was entirely at his disposal, and accordingly we set out next morning.

    [url=http://asvathylboo.tripod.com/rose-hotel-.html]Rose hotel [/url]
    [url=http://bescolace.tripod.com/hotel-maria.html]Hotel maria[/url]
    [url=http://conmadysfe.tripod.com/olympos-hotel.html]Olympos hotel[/url]
    [url=http://deitradosra.tripod.com/evripides-village-hotel.html]Evripides village hotel[/url]
    [url=http://emcesespjal.tripod.com/swiss-hotel-management-school.html]Swiss hotel management school[/url]
    [url=http://faduclila.tripod.com/sunrise-hotel-4.html]Sunrise hotel 4[/url]
    [url=http://finposunve.tripod.com/tokio-hotel-kerli-strange-mp3.html]Tokio hotel kerli strange mp3[/url]
    [url=http://fitmitagprext.tripod.com/100-tokio-hotel.html]100 tokio hotel[/url]
    [url=http://geodispwahmwhitt.tripod.com/diamond-beach-hotel-5-nehwbz.html]Diamond beach hotel 5 nehwbz[/url]
    [url=http://liodiutheohic.tripod.com/skachat-pesni-fanatov-tokio-hotel.html]Скачать песни фанатов tokio hotel[/url]
    [url=http://menlichildcin.tripod.com/sokos-hotel.html]Sokos hotel[/url]
    [url=http://pulredefun.tripod.com/continental-hotel.html]Continental hotel[/url]
    [url=http://revilonel.tripod.com/hotel-europa-rimini.html]Hotel europa rimini[/url]
    [url=http://sepimesbou.tripod.com/ctg-3-2.html]Отель sunset beach hotel 5[/url]
    [url=http://tingneandlisear.tripod.com/apart-hotel.html]Apart hotel[/url]


  79. Anonymous Says:

    I really like the path you are posting!

    you receive an engaging essence of view!

    http://www.cameredesupraveghere.eu/
    http://www.cameredesupraveghere.net/
    http://www.icansee.ro/
    [url=http://www.cameredesupraveghere.eu/camere-de-supraveghere.html ]Camere de supraveghere [/url]
    [url=http://www.cameredesupraveghere.net/camere-de-supraveghere ]Camere de supraveghere interior [/url]
    [url=http://www.icansee.ro/ ]Camere de supraveghere exterior [/url]
    http://www.cameredesupravegherevideo.com/
    http://www.supravegherevideocamere.ro/
    [url=http://www.supraveghere-video.net/ ]Camere de supraveghere exterior [/url]
    http://www.supraveghere-video.net/
    Supraveghere video pe internet


  80. Anonymous Says:

    What you said was actually νery logical. But,
    cоnsider this, suрpose you wеre tо write a awesome post tіtlе?
    Ӏ аin't saying your content is not good, however suppose you added a title to maybe grab folk's attentiоn?
    I mean "जूता, एक क्रांतिकारी हथियार..." is a littlе vanilla.
    You shοuld look at Үahοo's front page and watch how they create post titles to grab people to click. You might try adding a video or a pic or two to grab readers excited about what you'vе got
    tο say. In my opinion, it might make yоur
    рosts a little liνеliег.

    my homeрage ... WebRead